jazbat.com
शायरी – आज भी इंसानी दुनिया रीत में पुरानी है
शायरी आज भी इंसानी दुनिया रीत में पुरानी है कितनी सदियां बीत गई और वही कहानी है जोड़ सकना भी खुदा के हाथ की अब बात नहीं हर तरफ इस जहान में टूटने की निशानी है…