jazbat.com
शायरी – वो गजल है जो मिली है कोरे कागज को
शायरी समर्पित है ये मेरा प्यार एक मूरत को भूल न पाऐंगे उस दर्द भरी सूरत को उसकी तस्वीर है मेरी निगाहों में बसी अश्क ही है जलाने के लिए दीपक को…