jazbat.com
शायरी – जो भी दुनिया में मुहब्बत पे जाँनिसार करे
जो भी दुनिया में मुहब्बत पे जाँनिसार करे ऐसे दीवाने से आखिर क्यूँ कोई प्यार करे रेत प्यासा सा तड़पता है हर साहिल पे कितनी सदियों से वो लहरों का इंतजार करे…