jazbat.com
शायरी – जी तो करता है मेरे सामने तुम बैठी रहो
शायरी जी तो करता है मेरे सामने तुम बैठी रहो अपनी इन दर्द भरी आँखों से मुझे देखती रहो मैं खुद डूब जाऊँ तेरी इन निगाहों में और तुम खामोशी से मुझमे खोयी रहो…