jazbat.com
शायरी – अगर रूलाता हो दिल तो किसे सुकून मिले
शायरी तू याद आए अगर तो किसे सुकून मिले अगर रूलाता हो दिल तो किसे सुकून मिले मुझे यकीन है कि मैं कभी न बोलूँगा जुबाँ पे बात हो अटकी तो किसे सुकून मिले…