jazbat.com
शायरी – दिल जैसा नशेमन था, टूटकर बिखर गया
तिनको का आशियाँ था, पल में उजड़ गया दिल जैसा नशेमन था, टूटकर बिखर गया ये फूल सुनाते हैं लोगों के जुल्म को जो जिंदगी न दे सके, वह मौत दे गया. इमेज शायरी.…