jazbat.com
शायरी – दर्द उठता है तो बस ये ही दुआ करता हूं
लव शायरी सांस रुक जाए मगर आंखें कभी बंद न हो मौत आए भी तो तुझे देखने की जिद खत्म न हो दर्द उठता है तो बस ये ही दुआ करता हूं तेरे दिल में मेरे खातिर कोई भी जख्म न हो…