jazbat.com
शायरी – मेरा दर्द मसला फूल है, मेरी आह टूटा राग है
हिंदी शायरी कोई रास्ता नहीं मिला खूने-जिगर को तब मुझे ऐसा लगा कि जख्म भी खंजर से धारदार हो मेरा दर्द मसला फूल है, मेरी आह टूटा राग है मेरी मौत का शायद तुम्हें, मुद्दत से इंतजार हो…