jazbat.com
शायरी – तड़प-तड़प कर मांग रही हो किसको तुम दुआओं में
कोई तमन्ना दिल में तेरे अपना जोर लगाती है तड़प-तड़प कर मांग रही हो किसको तुम दुआओं में ये घनेरी काकुलें जो चूमती हैं गालों को एक हसीं तस्वीर हो तुम मेरी इन निगाहों में…