jazbat.com
शायरी – आहें दिल की आरजू हैं, दर्द ही तमन्ना है
शायरी हिंदी आहें दिल की आरजू हैं, दर्द ही तमन्ना है इश्क ही गुनाह मेरा, फिर सजा तो सहना है मुश्किलों के इस दौर में दूर है मेरी दिलरुबा ऐसी तन्हाई में मेरे मुश्किलों को बढ़ना है…