jazbat.com
शायरी – सावन भी गुजर जाएगा, आंसू भी बिखर जाएगा
हिंदी शायरी सावन भी गुजर जाएगा, आंसू भी बिखर जाएगा एक बार जो तू आ जाए, पतझड़ भी संवर जाएगा मेरे इश्क का चकोर तो चंदा से जुदा हो गया अब तो वो इस खिजां में रोकर ही मर जाएगा…