jazbat.com
शायरी – मेरा इश्क तो सरेआम है और दिल बड़ा बदनाम है
मेरा इश्क तो सरेआम है और दिल बड़ा बदनाम है बेदाग से इस चांद पे कुछ दाग तो लग जाने दो तू जो सामने आए कभी, तेरे सितम की मैं दाद दूं और फिर कहूं तुझे अलविदा, कोई ऐसा पल आने दो…