jazbat.com
शायरी – इतने तन्हा हो चुके हैं इस दुनिया में
इतने तन्हा हो चुके हैं इस दुनिया में मेरी मैयत पे शायद ही मातम होगा दर्द ही दर्द हर तरफ हैं डसने के लिए क्या खबर थी कि ये दिल बेरहम होगा…