jazbat.com
शायरी – सहरा की प्यास हो तुम, सागर की तलाश हो तुम
सागर तेरी निगाहों में डूबा, अंबर तेरे दिल में डूबा तेरे अश्क में सहरा डूबा, मैं हूं तेरे दर्द में डूबा सहरा की प्यास हो तुम, सागर की तलाश हो तुम अंबर की खामोशी में तुम हो. तुझमें सारा मंजर डूब…