jazbat.com
शायरी – जो खो गया है वही बस है अपना, जो बचा है उसे वहम कहिए
जब दीवारों में कोई अपना दिखे उसे ही दुनिया में सनम कहिए