jazbat.com
शायरी – तुम तरसती निगाहों को नुमाया न करो | shayari-love shayari-hindi shayari
तुम तरसती निगाहों को नुमाया न करो मैं प्यासा हूं, मेरी प्यास बढ़ाया न करो नींद न आए कभी तो बस ये दुआ करना ‘ऐ खुदा जलनेवालों को बुझाया न करो’…