jazbat.com
शायरी – इश्क हटा दोगे सीने से, आखिर क्या रह जाएगा | Real love stories
इश्क हटा दोगे सीने से, आखिर क्या रह जाएगा तब तो तेरा जिस्म सलोना, बुत जैसा रह जाएगा मुरादों की इस दुनिया में मेरी चाहत कुछ भी नहीं तू मुझे जो मिल न सकी, बस ये गम रह जाएगा…