jazbat.com
शायरी – दिल थाम कर जाते हैं हम राहे-वफा से
दिल थाम कर जाते हैं हम राहे-वफा से खौफ लगता है हमें तेरी आंखों की खता से जितना भी मुनासिब था हमने सहा हुजूर अब दर्द भी लुट जाए तुम्हारी दुआ से…