jazbat.com
शायरी – दर्द गूंज रहा दिल में शहनाई की तरह
तू बेखबर मेरी नींद बर्बाद कर गई रातभर तूने राहत दिलाई तो नहीं