jazbat.com
शायरी – हम रो रहे हैं दो किनारों की तरह
तुमपे भरोसा था, तू बेवफा हो गया क्या खबर थी तुम भी हो हजारों की तरह