jazbat.com
शायरी – जब आप पर नजर पड़ी थी सनम
उठ गए थे उसी दिन जहां से हम जब आप पर नजर पड़ी थी सनम खूबसूरत सा कांटा दिल में चुभा फूलों में भी अब दिखता है गम…