jazbat.com
शायरी – वो दरिया को देखता है आईने की तरह
पास दरिया है मगर उसमें एक पत्थर नहीं फेंका वो दरिया को देखता है आईने की तरह