jazbat.com
शायरी – तेरी यादों के नूर में जला जाता हूं
हमें भी इश्क हुआ तेरी नजर में खोकर आज भी मैं बेखबर सा जीए जाता हूं