jazbat.com
शायरी – जब जख्मों का कोई हिसाब ही नहीं | shayari-love shayari-hindi shayari
मेरे जीवन में तजरबों की कमी क्या होगी जब जख्मों का कोई हिसाब ही नहीं