jazbat.com
शायरी – ऐसी तकदीर न पाई थी कि तुमको पा सकता
ऐसी तकदीर न पाई थी कि तुमको पा सकता ऐसी याद्दाश्त न मिली थी कि तुमको भुला सकता…