jazbat.com
शायरी – तो कौन कश्ती किनारे की परवाह करे
जब समंदर में ही रहके इतनी खुशी मिले तो कौन कश्ती किनारे की परवाह करे