jazbat.com
शायरी – सच्ची मुहब्बत दिल से मिटा दे, किसके बस की बात है
उम्र गुजर जाती है पल-पल उनके यादों के मंजर में फिर किसी से दिल लगा ले, किसके बस की बात है…