jazbat.com
शायरी – मुझसे वो खफा है और दिल मुझसे खफा है
मुझसे वो खफा है और दिल मुझसे खफा है खंजर चुभे हैं दोनों तरफ से पर आह तक न आए सबसे जुदा है मेरा गम, फूल की तरह नाजुक है इतने जतन से संभाला है कि मुस्कान तक न आए…