jazbat.com
शायरी – कांटों, फूलों, खताओं और गुनाहों में | shayari-love shayari-hindi shayari
जुल्मो सितम की इंतहा हमने देखी है तुझे जी भरके अभी देखना बाकी है