jazbat.com
शायरी – मेरे सामने बैठी रहो, मैं तुमको देखता रहूं | shayari-love shayari-hindi shayari
तुम्हारी यादों के दीये रोज हम जलाते रहे उसकी लौ में सारी रात दिलको जलाते रहे अब मेरे सामने बैठी रहो, मैं तुमको देखता रहूं तेरे दामन में सर रख देर तक रोता रहूं…