jazbat.com
शायरी – वो दिल से जलता रहा, जिस्म से बुझता रहा
उसके आंसू लफ्ज बने, उसकी खामोशी राग बनी वो नगमा बन गूंजता रहा, खुशबू बन उड़ता रहा…