jazbat.com
शायरी – हमें जमाने की राह पे चलना नहीं आया
हम बनी-बनाई सड़क पे नहीं चलते हैं इसलिए जमाने में हमको चलना नहीं आया