jazbat.com
शायरी – मेरी जिंदगी का ये हसीन सहर है
मेरी जिंदगी का ये हसीन सहर है खत्म हो रहा जब मेरा सफर है खुदा मिला तो सुनाऊंगा उसे तेरी दुनिया बस जहर है, जहर है…