jazbat.com
शायरी – यही दिलजलों की तकदीर है शायद | shayari-love shayari-hindi shayari
चल पड़ा है अकेला ही एक सितारा कोई मंजिल कहीं मुंतजिर है शायद एक आग सी उठती है सीने में कहीँ यही दिलजलों की तकदीर है शायद…