jazbat.com
शायरी – तनहा सफर में दर्द की आग जो भड़की
शायरी तनहा सफर में दर्द की आग जो भड़की वो चुभने वाली शोलों की संगीन होती है