jazbat.com
इमेज शायरी – कितने शम्मे जलाए दिल ने यादों के | shayari image and love stories
ख्वाबों के तमाशों से उबर नहीं पाए हम इस मेले में खोकर यूं गुमनाम बन गए मजारों पे कितने ही शम्मे जलाए दिल ने यादों के शहर भी अब श्मशान बन गए…