jazbat.com
%e0%a4%b0%e0%a5%8b%e0%a4%b6%e0%a4%a8%e0%a5%80-%e0%a4%86%e0%a4%a4%e0%a5%80-%e0%a4%a8%e0%a4%b9%e0%a5%80%e0%a4%82-%e0%a4%9c%e0%a4%bf%e0%a4%82%e0%a4%a6%e0%a4%97%e0%a5%80-%e0%a4%ae%e0%a5%87%e0%a4%82 | shayari and love stories
रोशनी आती नहीं जिंदगी में कुदरत की शहर में चांद सूरज बदहवास बुझ जाए दूर निकल आया हूं अब खुद से कितना कि अपने होने का भी अहसास बुझ जाए…