jazbat.com
ईमेज शायरी – तेरे इतने अहसान हम ले के चले | shayari and love stories
मंजिलें छूट गई मेरा ही पीछा करते ऐसे कितने ही मुकाम हम ले के चले तुम भी शायद कभी ये इकरार करो कि तेरे इतने एहसान हम ले के चले…