jazbat.com
शायरी – सीने में जो आग जली है, जलके कोई राख न छूटे | shayari image and love stories
शायरी दर्दे दिल से आह न रूठे साज का एक तार न टूटे सीने में जो आग जली है जलके कोई राख न छूटे…