ithinkmyway.wordpress.com
Nature के पास
निकले हम बिच जंगल से कही थे पर्वत, कही जाड़ी गिच कही वो मौसी माथे पे उठाये घास की गठरी। कही वो सड़क किनारे पेड़ से बंधी गाय, तो कही अपनी मौज में बीच राह बैठा वो कुत्ता। कही बकरी को चराते वो माजी कही द…