hindipoetryworld.wordpress.com
जोशे ऐ वतन
Josh Versus Jaish जोश की उड़ी उड़ान । जय हिंद !जय जवान! जोश ! तो अभी बाकी है। ये तो बस इक झांकी है । ऐ तिरंगे ! हम तेरे साकी हैं। कसमे ऐ वतन खाती खाकी है । रुह ऐ जिस्म भारत मां की है ।…