hindipoetryworld.wordpress.com
बेजुबान हुं पर गुमराह नही
मेरी चुप्पी मेरी कमजोरी नही । मैं तो वक्त को तवज्जो देता हूं । दरद जमाने तेरे सारे मैं सहता हूं । कुछ कहना गर बस उसे कहता हूं । जो फैसले वक्त ही तय करता है । जाने बंदा उसमे क्यूं अड़ता है ? मेरी खा…