hindipoems.org
Hindi Poem on Makar sakranti
आज का दिन है अति पावन मकर संक्रांति का है दिन आज उड़ेगी आकाश में पतंग होंगे लाल पिले सब रंग गंगा में डुबकी लगाओ करो शीतल तन और मन दान करो चीनी चावल धान कमाओ पुण्या बनाओ परमार्थ जोड़ो हाथ ईशवर से वर म…