hindilovepoems.com
Hindi Poem for Him – सब कुछ हार गया हूँ
ना सता यूँ, ए ज़िन्दगी ! की मन हार गया हूँ मैं, जीत कर दुनिया सारी, सब कुछ हार गया हूँ मैं। आ और आकर थाम ले हाथ मेरा ए मौला ! जीने की चाह में, मौत के पार गया हूँ मैं। रिश्ते-नसीब-मेहनत सब आजमाए हैं …