hindilovepoems.com
Hindi Love Poem-तुम सच्ची साथी
उठा लेखनी आज कुछ ऐसा काम कर रहा हूँ, कुछ छन्द, हे जीवनसंगिनी ! तेरे नाम कर रहा हूँ । ऋतुओं में सबसे ऊपर ऋतुराज हो तुम, कल और आज में, मेरा आज हो तुम। पल-पल मेरा कितना ख्याल रखती हो, संग-संग मात-पिता…