hindilovepoems.com
Hindi poem on Holi Festival – इश्क़ रंग चढ़ा
रंगो का कोई रंग चढ़ा इश्क़ रंग मुझे आज चढ़ा धूप हुई गुलाबी सी फाल्गुनी छठा में मैं घुला रंगो का कोई रंग चढ़ा होली के सब रंग मिले तुझमें ही तो तो सब घुले इश्क़ में सजा गुलाबी था मोहबत सा रंग लाल लगा पीला…