hindilovepoems.com
Hindi love Poem on Separation-बिरह
आज जब वो बहुत दूर है तो ये बिरह के आंसू थमते ही नहीं और कहते हैं-बिरह के ये पल शोलों से चुभ जाते हैं, याद करके तुझको पल पल आँखों मैं आंसू लाते हैं, काँटो सी हैं चुभती रातें, पल पल आग लगाती हैं, जलत…