hindilovepoems.com
Hindi love poem for lost love-बहुत दिन गुज़र चुके 
बहुत दिन गुज़र चुके तेरे दूर जाने में कितनी देर लगेगी और तेरे लौट आने में वैसे तो काम बहुत हैं मुझे ज़माने में लेकिन आशिक़ हूँ मैं तेरा बताने में आजा अब छोड़ ये लुक्का छिप्पी का खेल किसी ब…