hindilovepoems.com
Hindi Love Poem for Brother-भाई
एक साया बनके साथ रहे, वो पल मेरे जीने का एहसास बन गये, बचपन से थामे रहे मेरे हाथ, मेरी खुशियों की पहचान बन गये, कभी दोस्त बनके हाथ थामा, कभी भाई बन के डाँटा, गिरी जब मैं किसी राह पे, और तूने बहाये …