hindilovepoems.com
Hindi Love Poem-दर्द के साये मे
दर्द के साये मे भी दिल बहलने लगा, मेरे आंसुओं का रंग भी बदलने लगा, इतने करीब आकर उसने ज़ख्म दिये मुझे, सांसें चलती रही पर दम निकलने लगा, मेरी राहों मे हज़ार कांटे बिखेर कर, अब वो खुद मेरा हमसफर बनन…